X
वो बचपन हमारा - दिलचस्प पंक्तियाँ | FullFunCity
Interesting Texts Thoughts & Quotes

वो बचपन हमारा – दिलचस्प पंक्तियाँ

Written by Love

हमारे बचपन में कपड़े तीन टाइप के ही होते थे

स्कूल का

घर का और

किसी खास मौके का

अब तो

कैज़ुअल

फॉर्मल

नॉर्मल

स्लीप वियर

स्पोर्ट वियर

पार्टी वियर

स्विमिंग

जोगिंग

संगीत ड्रेस

फलाना

ढिमका
जिंदगी आसान बनाने चले थे पर वह कपड़ों की तरह कॉम्प्लिकेटेड हो गयी है
बचपन में पैसा जरूर कम था

पर साला उस बचपन में दम था
पास में महंगे से मंहगा मोबाइल है

पर बचपन वाली गायब वो स्माईल है
न गैलेक्सी

न वाडीलाल

न नैचुरल था

पर घर पर जमीं आइसक्रीम का मजा ही कुछ ओर था
अपनी अपनी कारों में घुम रहें हैं हम पर किराये की उस साईकिल का मजा ही कुछ और था |

*बचपन में पैसा जरूर कम था*

*पर साला उस बचपन में दम था*

Leave a Comment