X
हिंदी चुटकुले मस्ती 6 | FullFunCity
Jokes Latest Jokes Santa Banta Jokes Whatsapp Jokes

हिंदी चुटकुले मस्ती 6

Written by Love

 

दुनिया में तीन लोग बहुत प्यारे और अच्छे हैं…!!

एक.. मैं…!!☺
दुसरा.. मेरे माता पिता की संतान…यानि के मैं…!!☺
और तीसरा….. आपका दोस्त…यानि के फिर मैं…!!☺
जलो मत .. हौसला रखो.. आप भी तो इतने प्यारे और अच्छे इंसान के दोस्त हो……यानि के फिर मैं..!!

****************************************************

एक मोटी औरत

डॉक्टर के पास गई और बोली-

“डॉक्टर  साहब आपने तो कहा था कि खेलने से मोटापा कम होता है पर मेरा तो बिल्कुल कम

नहीं हुआ।”
डॉक्टर-” कौन सा खेल खेलती हो ?”
मोटी औरत- “तीन पत्ती”
डाक्टर बेहोश…….

****************************************************

एक शरीफ आदमी को भला क्या चाहिए ?
एक बीवी, जो प्यार करे…

एक बीवी, जो अच्छा खाना बनाए…

एक बीवी, जो बच्चों को संभाले…
और,

..

और क्या,

तीनों बीवियां मिल-जुलकर रहें! .

बस्स

****************************************************

दीवाली के Rocket को देख के यह एहसास हुआ कि…

.

.

.

अगर जीवन में ऊँचाइयों तक पहुँचना है तो,
बोतल का सहारा तो लेना ही  पड़ेगा !!

****************************************************

एक मंदिर के बाहर नोटिस लगा था –

अपनी

बीवी को संभाल कर

रखें, भीड़ में उसके खो जाने पर

कहीं आपको ये

गलतफहमी ना हो जाए कि भगवान

ने आप की सुन ली।

****************************************************

संता – यार मेरे एक कमीने दोस्त ने

चुपके से मेरी गर्लफ्रेंड का नंबर

मेरे मोबाईल से चुरा लिया

 

बंता – फिर क्या हुआ मेरे भाई ??

?

संता – फिर

.

.

होना क्या था,?

कमीना सुबह से

अपनी ही बहन को

रोमांटिक मैसेज भेज रहा है?

 

****************************************************

अकबर : चायपत्ती और पति में क्या समानता है ?
बीरबल : जहांपना…

दोनों के ही भाग्य में जलना और उबलना लिखा है…
ओर वो भी औरत के हाथो…

****************************************************

पति—‘; डॉक्टर साहब, मेरी बीवी के अपेंडिक्स में भयानक दर्द हो रहा है। ‘;
डॉक्टर—‘; बेवकूफ ……! मैंने एक साल पहले ही तुम्हारी बीवी के अपेंडिक्स को आपरेशन करके उसे निकाल दिया था। इस संसार में ऐसा एक भी इंसान नहीं है, जिसके दो अपेंडिक्स हों। ‘;
पति—‘; ठीक है……, आप की बात एकदम सही है डाक्टर साहब। लेकिन कुछ लोगों के पास दूसरी बीवी भी तो हो सकती है। ‘;
डॉक्टर बेहोश !

****************************************************

पत्नियाँ दो तरीके की होती हैं

१. वो जो पति की बात सुनती है, उसके विचारों को समझती है, प्यार से पेश आती है, कभी भी कोई फरमाइश नहीं करती और तो और पति कितना भी गुस्सा करे वो मुस्कुराती रहती है…

और,

दूसरी….

वो ,

जो सबके पास है…..

****************************************************

दुकानदार .क्या चाहिए?
ग्राहक . मुझे बीवी से लड़ने के लिए  ताकत चाहिए, हिम्मत  चाहिए

अकल भी चाहिए।
दुकानदार .साहब को एक क्वार्टर दो, सोडा दो

और मुँगदाल का पैकेट दो,  पाँच वाला।

****************************************************

वो लड़कीया भी किसी आतंकवादी से कम नही हुआ करती थी…

जो टिचर के क्लास मे आते ही याद

दिला देती है ..
सर आपने टेस्ट का बोला था…

****************************************************

आजकल के बच्चे क्या समझेंगे

 

हमने किन मुश्किल परिस्थितियों में पढ़ाई की है,

कभी कभी तो मास्टर जी हमें

मूड फ्रेश करने के लिये ही कूट दिया करते थे

****************************************************

मन की बात…
आज कल के बच्चे रिफ्रेश होने के लिए जहाँ वाटर पार्क, गेम सेंटर जाने की जिद करते हैं …
वहीं हम ऐसे बच्चे थे जो मम्मी-पापा के एक झापङ से ही फ्रेश हो जाते थे.!

****************************************************
वो भी क्या दिन थे….????

जब बच्चपन में कोई रिश्तेदार जाते समय 10 ₹ दे जाता था..
और माँ 8₹ टीडीएस काटकर 2₹ थमा देती थी….!!!

****************************************************
घर का T.V बिगड़ जाए

तो माता-पिता कहते हैं..

बच्चों ने बिगाड़ा है;
और अगर बच्चे बिगड़ जाएं तो

कहते है..

T.V. ने बिगाड़ा है !!!

****************************************************
आज कल के माँ बाप सुबह स्कूल बस में बच्चे को बिठा के ऐसे बाय बाय करते हैं जैसे पढ़ने नहीं विदेश यात्रा भेज रहें हो….
और

एक हम थे जो रोज़ लात खा के स्कूल जाते थे…

****************************************************
4-4साल के बच्चे गाते फिर रहे हैं

“छोटी ड्रेस में बॉम्ब लगदी मैनु”
साला जब हम चार साल के थे तो 1 ही वर्ड याद था..

वही गाते फिरते थे…

“शक्ति शक्ति शक्तिमान-शक्तिमान”

****************************************************
भला हो हनी सिंह और जॉन सीना का..

जिसने आज के बच्चो को फैशन के नाम पे बाल बारीक़ छोटे रखना सीखा दिया..
हमारी तो सबसे ज्यादा कुटाई ही बालो को लेके हुई थी।।

हम दिलजले के अजय देवगन बनके घूमते थे,

और जिस दिन पापा के हाथ लग जाते उस दिन नाईं की दुकान से क्रन्तिविर के नाना पाटेकर  बनाके ही घर लाते थे।।।

 

Leave a Comment